17 मई।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में युवाओं की मांग परफोटोशाप अनकव्हर विषय पर कार्यशाला आयोजित हुई। इसमें कनखल हरिद्वार शहर के अलावा शांतिकुंज, देवसंस्कृति विवि के अनेक युवकयुवतियोंं ने भागीदारी कर फोटोशाप की व्यावहारिक प्रशिक्षण प्राप्त किया।

इस अवसर पर प्रशिक्षक गगन सिन्हा, शिशिर, मुकेश तोंगडियाल आदि ने प्रतिभागियों को फोटोशाप की प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, सोशल मीडिया सहित एनीमेटेड फिल्मों में बढ़ती मांग के अनुरूप प्रशिक्षण दिया। तो वहीं आजकल बनने वाली थ्रीडी इफेक्ट की बारिकों को भी समझाया। युवाओं ने जाना कि किस तरह फोटोशाप साफ्टवेयर के माध्यम से प्राकृतिक रेखांकित फोटो को व्यवस्थित कर उसकी गुणवत्ता में सुधार कर आकर्षक बनाया जा सकता है। रंगों के साथ तालमेल करते हुए उसे थ्रीडी इफेक्ट के द्वारा स्थिर छायाचित्रों को चलाते हुए रचनात्मक संदेश भी दिया जा सकता है। साथ ही उन्हें फोटोशाप में चित्र बनाने के लिए ब्रश का आकार, आकृति एवं गतिशीलता आदि पर विस्तार से जानकारी दी गयी।

इस अवसर पर कुलपति शरद पारधी ने कहा कि आज के इस वैज्ञानिक युग में कम्प्यूटर की उपयोगिता बढ़ गयी है। फिर कुछ ऐसे साफ्टवेयर गये हैं, जिससे स्थिर छायाचित्रों को चलाते हुए फिल्मों के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। इस दिशा में युवाओं को नई दिशा देते हुए ऐनिमेशन विभाग ने सार्थक पहल किया है। प्रति कुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि युवाओं की इस तरह पहल को देखते हुए ही एनिमेशन के क्षेत्र में आगामी सत्र से बीएससी पाठ्यक्रम का शुभारंभ किया जा रहा है। इसमें अब तक कई राज्यों के युवाओं ने अपना आवेदन भेजा है।

विभाग की समन्वयक कावेरी बाली ने बताया कि एनिमेशन एवं वीएफएक्स के माध्यम से युवाओं को रचनात्मक गतिविधियों में जोड़ने का सतत प्रयास किया जा रहा है। यहां सीखनेसिखाने के इस में क्रम में सभी का स्वागत है। उन्होंने बताया कि इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य कलात्मक रूचि रखने वाले उत्साही प्रतिभागियों को स्मार्ट फोटोशॉप टेक्निक्स से अवगत कराना और उनको ऐसे ही स्मार्ट फोटोशॉप टूल्स सिखाना जिसकी मदद से वह सामान्य इमेज एडिटिंग के कार्य अपनी जरुरत के अनुसार बेहतर तरीके से और काम समय में कर सके। उन्होंने बताया कि इसी तरह एक सेमीनार जुलाई के मध्य में भी आयोजित किया जायेगा।